Tuesday, December 26, 2017

36

तुम बेवजह बदनाम करोगे
मालूम था ये काम करोगे

ज़िंदगी काफ़ी न थी मेरी
अब नींद भी हराम करोगे

मैं बनाता हूँ महल रेत का
तुम बारिश तमाम करोगे

ये ज़िद भी क्या ज़िद है
तुम्हीं सुबह तुम्हीं शाम करोगे

गुज़र जाने दो मुझे फिर
इंशाल्लाह आराम करोगे

No comments:

Post a Comment

Recent

43

नहीं वो बात अब पीपल की ठंडी छांव में   शहर बसने लगा है रोज़ मेरे गांव में न जाने बोलियां मीठी कहाँ गायब हुई   नहीं है फर्क कोई कूक में और...

Popular