Sunday, January 14, 2018

41

सेहरा की दोपहर में नमी बन के रहना 
आदमी को मुश्किल है आदमी बन के रहना 

मैं बरसूंगा एक दिन आखिरी बूँद तक 
तुम खेत सी सूखी ज़मी बन के रहना 

तस्वीर ज़िन्दगी की मुकम्मल नहीं हो जिससे 
वो रंग बन के रहना वो कमी बन के रहना 

ये सितारे खूब  रश्क़  करते हैं फिर भी 
चाँद को आता है लाज़मी बन के रहना 

No comments:

Post a Comment

Recent

42

हर बात पे अब बात नहीं की जाती बात ये है के अब बात नहीं की जाती   सुनते हैं उसको भी चुपचाप देखा लोगों ने और हमसे भी कोई बात नहीं की जाती जि...

Popular