Wednesday, March 27, 2013

10

इस रिश्ते  को पर्दा ही रहने दो, 
तुमसे न बताया जायेगा ,
तुम तो न पहचानोगे मुझे,
पर  आँखों से रहा न जायेगा ! 

कोई बात बाकी नहीं रही,
हिसाब ख़तम कर दिया मैंने ,
असल तो तुम ले गए,
यादों से मेरा वक़्त कट जायेगा ! 

थकना ही होगा उसे एक दिन ,
ये मंज़र ही ऐसा है साहब, 
लोहे के पिंजरे में अकेला,
आखिर कब तक फड़फडायेगा !

मैंने नहीं कहा तुमको बेवफा,
बेफिर्क  ज़िन्दगी जी तो तुम , 
वो कहते हैं मुझको बुजदिल,
इलज़ाम किसी के सर तो जायेगा !

2 comments:

  1. कोई बात बाकी नहीं रही, हिसाब ख़तम कर दिया मैंने ,
    असल तो तुम ले गए, यादों से मेरा वक़्त कट जायेगा ! ..

    prem mein yaadon se hi bad vaqt kat paata hai ...
    lajwaab sher ...

    ReplyDelete
  2. इस रिश्ते को पर्दा ही रहने दो, तुमसे न बताया जायेगा ,
    तुम तो न पहचानोगे मुझे, पर आँखों से रहा न जायेगा !


    क्या बात है ....
    बहुत खूब ....!!

    ReplyDelete

Recent

42

हर बात पे अब बात नहीं की जाती बात ये है के अब बात नहीं की जाती   सुनते हैं उसको भी चुपचाप देखा लोगों ने और हमसे भी कोई बात नहीं की जाती जि...

Popular