Sunday, April 6, 2014

14


ए खुदा इतनी सी तू मुझ पे इनायत कर दे
मेरे कातिल कि भी मेरी सी हालत कर दे !

मेरे दुश्मन तेरे सजदे में झुके हैं शायद
मान ले उनकी दुआ थोड़ी सियासत कर दे !

कभी महबूब था जो आज है मुंसिफ मेरा
चलो अछा है निगाहों को अदालत कर दे !

अब तो दिल भी मेरा मुझसे खफा रेहता है,
जाने किस रोज़ कमबख्त बगावत कर दे !

तेरे अहसान किसी रोज़ चुका दूंगा मैं -
कभी टूटे हुये रिश्तों की तिज़ारत कर दे !

तू तो काफिर भी नहीं है , नमाज़ी भी नहीं
अब जो करनी है तो महबूब ए इबादत कर दे !

यूं नहीं देख उसे छुप के भरी मेहफिल मे
उसकी आँखें न उसके दिल से शिकायत कर दे !

बड़े साहेब बने फिरते हो शहर ए  दिल्ली में ,
वक़्त का क्या है किस रोज़ क़यामत कर दे  !






   

4 comments:

  1. वाह वाह .. क्या बात है ... खूबसूरत शेर हैं ...

    ReplyDelete
  2. अभार मित्र, स्नेह !

    ReplyDelete
  3. ए खुदा इतनी सी तू मुझ पे इनायत कर दे
    मेरे कातिल कि भी मेरी सी हालत कर दे ! bahut khoob ..isse badi saja to koi ho hi nahi sakti ....

    ReplyDelete
  4. Wah hazrat wah.....

    ReplyDelete

Recent

42

हर बात पे अब बात नहीं की जाती बात ये है के अब बात नहीं की जाती   सुनते हैं उसको भी चुपचाप देखा लोगों ने और हमसे भी कोई बात नहीं की जाती जि...

Popular