Wednesday, March 18, 2015

15

शहर ए  दिल्ली में असरदार कितने हैं ,
उसकी बातों से खबरदार कितने हैं.
मज़हबी रंग में बनती बिगड़ती सरकारें ,
जम्हूरियत में समझदार कितने हैं।

मुफ़लिसी के दौर में नज़र आया ,
दोस्तों में मददगार  कितने हैं
चोर को चोर कहना गुनाह है साहब
निज़ाम गिनता है - गुनहगार कितने हैं

लूट गयी आबरू सरे बाज़ार फिर से
हुक्मराँ ए हिंद लाचार कितने हैं।
वो सियासत में दोस्त कहता है ,
दिल से पूछ वफादार कितने हैं 

No comments:

Post a Comment

Recent

42

हर बात पे अब बात नहीं की जाती बात ये है के अब बात नहीं की जाती   सुनते हैं उसको भी चुपचाप देखा लोगों ने और हमसे भी कोई बात नहीं की जाती जि...

Popular