Wednesday, December 13, 2017

27

आदमी बनता के खुदा बनता
और तेरे लिए क्या बनता

तूने आँधी बना के छोड़ दिया
बात तो जब थी के हवा बनता

हम,बुज़दिली ओ सनक एक साथ
फिर ना कैसे ये  कहकहा बनता

आप साथ उसके नहीं रह सकते
ग़ोया अच्छा सा आशियाँ बनता

सिर्फ़ घर बनाना मुश्किल है यहाँ
वरना दिल्ली में क्या नहीं बनता

No comments:

Post a Comment

Recent

42

हर बात पे अब बात नहीं की जाती बात ये है के अब बात नहीं की जाती   सुनते हैं उसको भी चुपचाप देखा लोगों ने और हमसे भी कोई बात नहीं की जाती जि...

Popular