Tuesday, December 26, 2017

35

बस धुआँ है जहाँ तक नज़र जाए
 हाल एसा हो तो आदमी किधर जाए

एक ख़्वाहिश है के मेरी खुदी के आगे
वो भी  टूटे और टूट के बिखर जाए

अब मेरी अपनी कोई मंज़िल ही नहीं
चला जाता हूँ के जिस तरफ़ शहर जाए

और रहता भी किस तरह में घर में अपने
घर मुझसे ये कहता है अपने घर जाए

कहाँ तन्हाई का आलम कहाँ आदत तेरी
ये तो हम है मियाँ, वरना तो कोई मर जाए

No comments:

Post a Comment

Recent

42

हर बात पे अब बात नहीं की जाती बात ये है के अब बात नहीं की जाती   सुनते हैं उसको भी चुपचाप देखा लोगों ने और हमसे भी कोई बात नहीं की जाती जि...

Popular