Wednesday, December 13, 2017

30

मुझको तुम्हारा गुमान होना चाहिए क्या ?
मेरे चेहरे पे भी निशान होना चाहिए क्या ?

तुम इम्तिहान लेते हो शिद्दत का मेरी
सच कहो मेरा इम्तिहान होना चाहिए क्या ?

ये 
 वहशत  फ़िराक़ और ये एकाकी
अब सुबह भी एक जाम होना चाहिए क्या ?

यूँ चला आता हूँ हर बार शहर तेरे
दिल्ली में मेरा मकान होना चाहिए क्या ?

तेरी उम्मीद, मेरे ख़्वाब और कुछ हवा
घर में और भी सामान होना  चाहिये क्या ?

सारे मुंसिफ़ खड़े नज़र आते हैं तेरे हक में
फ़ैसला और भी आसान होना चाहिए क्या ?

No comments:

Post a Comment

Recent

42

हर बात पे अब बात नहीं की जाती बात ये है के अब बात नहीं की जाती   सुनते हैं उसको भी चुपचाप देखा लोगों ने और हमसे भी कोई बात नहीं की जाती जि...

Popular